ब्रेकिंग CM योगी ने जमकर लगाया कप्तानों को फटकार, कहा- अब तबादला ही नहीं होगी बड़ी कार्रवाई                  
विज्ञापन समाचार प्राइम 24 न्यूज़ नेटवर्क परिवार की ओर से समस्त देशवासियों को दीपावली के पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं                  रविंद्र कुमार मिश्र प्रभारी कोतवाली राया जनपद मथुरा                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
प्रमुख सचिव का खुलासा- डॉ कफील को नहीं मिली क्लीन चिट, 7 मामलों में चल रही है जांच
Lucknow,(Uttar Pradesh)(03-Oct-2019)

प्रमुख सचिव का खुलासा- डॉ कफील को नहीं मिली क्लीन चिट, 7 मामलों में चल रही है जांच प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा रजनीश दुबे ने कहा कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज (BRD Medical College) में हुई बच्चों की मौत में प्रथम दृष्ट्या दोषी पाए गए 3 डॉक्टरों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के निर्देश देकर निलंबित किया गया था. उन्होंने कहा कि आरोपी डॉक्टर कफ़ील (Dr Kafeel) ने जांच आख्या को गलत रूप में प्रचारित किया UP: प्रमुख सचिव का खुलासा- डॉ कफील को नहीं मिली क्लीन चिट, 7 मामलों में चल रही है लखनऊ. गोरखपुर (Gorakhpur) के बीआरडी मेडिकल कॉलेज (BRD Medical College) में ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत के मामले में आरोपी डॉ कफील खान (Dr Kafeel Khan) को कथित तौर पर मिली क्लीन चिट पर यूपी सरकार ने सवाल खड़े कर दिए. यूपी के प्रमुख सचिव (मेडिकल एजुकेशन) रजनीश दुबे ने गुरवार को कहा कि डॉक्टर कफील को सरकार ने क्लीन चिट नहीं दी है. कफील के खिलाफ अभी भी 7 मामलों में जांच चल रही है. रजनीश दुबे ने कहा कि बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुई बच्चों की मौत में प्रथम दृष्ट्या दोषी पाए गए 3 डॉक्टरों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के निर्देश देकर निलंबित किया गया था. उन्होंने कहा कि आरोपी डॉक्टर कफ़ील ने जांच रिपोर्ट को गलत रूप में प्रचारित किया है. उन्होंने कहा कि आरोपी डॉक्टर ने खुद को दोष मुक्त बताकर ग़लत खबर चलवाई. डॉक्टर कफील ने मीडिया के सामने ग़लत तथ्य रखे. डॉ कफ़ील के खिलाफ शासन स्तर पर जांच जारी है. चार में से दो आरोप सही पाए गए हैं प्रमुख सचिव ने कहा कि डॉ कफ़ील के खिलाफ चार में से दो आरोप पूर्णतया सही पाए गए हैं. शेष दो आरोपों की जांच जारी हैं. उन्होंने कहा कि डॉ कफ़ील के खिलाफ निजी अस्पताल में कार्य करने की शिकायत सही पाई गई है. डॉ कफ़ील के खिलाफ शेष दो आरोपों में शासन द्वारा उन्हें क्लीन चिट नहीं दी डॉ कफ़ील के खिलाफ बहराइच के बाल रोग विभाग में जबरन इलाज करने का आरोप है.जिसमे उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर इस मामले की भी जांच कराई जा रही है. डॉ कफ़ील के खिलाफ दो मामलों में लगे सात आरोपों में विभागीय कार्रवाई की जा रही है. ये संवेदनशील मामला है, इसलिए कानूनी प्रक्रिया के तहत इस मामले में कार्रवाई की जाएगी. बता दें पिछले दो साल से निलंबित चल रहे डॉ. कफील को लेकर मीडिया में खबर आई थी कि उनके खिलाफ बिठाई गई जांच में विभागीय टीम ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट में डाॅ. कफील को हादसे के दिन अपनी ड्यूटी नहीं निभाने सहित भ्रष्‍टाचार के अन्य आरोपों से बरी कर दिया गया है.




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2019