ब्रेकिंग CM योगी ने जमकर लगाया कप्तानों को फटकार, कहा- अब तबादला ही नहीं होगी बड़ी कार्रवाई                  
विज्ञापन समाचार प्राइम 24 न्यूज़ नेटवर्क परिवार की ओर से समस्त देशवासियों को दीपावली के पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं                  रविंद्र कुमार मिश्र प्रभारी कोतवाली राया जनपद मथुरा                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
SBI के ग्राहकों के लिए बुरी खबर, मिनिमम बैलेंस पर लगती रहेगी पेनल्टी
Delhi,(Delhi)(08-Feb-2018)

SBI के ग्राहकों के लिए बुरी खबर, मिनिमम बैलेंस पर लगती रहेगी पेनल्टी मिनिमम बैलेंस से राहत की उम्‍मीद लगाए SBI के ग्राहकों के लिए बुरी खबर है. एसबीआई के ग्राहकों को तय मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने की सूरत में पैनल्‍टी देनी होगी. देश के सबसे बड़े बैंक के कस्‍टमर्स के लिए पहले की तरह मिनिमम बैलेंस के जरूरी नियम लागू रहेंगे. हालांकि, यह नियम अलग-अलग तरह की ब्रांचों में अलग-अलग होगा. मिनिमम बैलेंस के मामले में किसके खाते में कितनी पैनल्‍टी लगेगी, यह औसत मिनिमम बैलेंस पर भी निर्भर करेगी. मिनिमम बैलेंस से राहत की उम्‍मीद लगाए SBI के ग्राहकों के लिए बुरी खबर है. एसबीआई के ग्राहकों को तय मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करने की सूरत में पैनल्‍टी देनी होगी. देश के सबसे बड़े बैंक के कस्‍टमर्स के लिए पहले की तरह मिनिमम बैलेंस के जरूरी नियम लागू रहेंगे. हालांकि, यह नियम अलग-अलग तरह की ब्रांचों में अलग-अलग होगा. मिनिमम बैलेंस के मामले में किसके खाते में कितनी पैनल्‍टी लगेगी, यह औसत मिनिमम बैलेंस पर भी निर्भर करेगी. मिनिमम बैलेंस की शर्तों के मामले में एसबीआई ने अपनी ब्रांचों को चार तरह से बांटा है- मेट्रो, रूरल, अर्बन और सेमी-अर्बन. अर्बन या मेट्रो ब्रांचों के कस्‍टमर्स पर पहले की तरह 3000 रुपए मिनिमम औसत बैलेंस का नियम लागू रहेगा. मिनिमम बैलेंस की शर्तों के मामले में एसबीआई ने अपनी ब्रांचों को चार तरह से बांटा है- मेट्रो, रूरल, अर्बन और सेमी-अर्बन. अर्बन या मेट्रो ब्रांचों के कस्‍टमर्स पर पहले की तरह 3000 रुपए मिनिमम औसत बैलेंस का नियम लागू रहेगा. इससे पहले उम्‍मीद की जा रही थी कि सरकार के दबाव में SBI मिनिमम बैलेंस की शर्तों में राहत दे सकता है. यह भी कहा गया था कि बैंक मासिक औसत बैलेंस की जरूरत को तिमाही औसत बैलेंस में बदलने की तैयारी में भी है. यानी ग्राहकों को हर महीने की बजाय तिमाही पर अपने अकाउंट में निर्धारित बैलेंस मेंनटेन करना होगा. इससे पहले उम्‍मीद की जा रही थी कि सरकार के दबाव में SBI मिनिमम बैलेंस की शर्तों में राहत दे सकता है. यह भी कहा गया था कि बैंक मासिक औसत बैलेंस की जरूरत को तिमाही औसत बैलेंस में बदलने की तैयारी में भी है. यानी ग्राहकों को हर महीने की बजाय तिमाही पर अपने अकाउंट में निर्धारित बैलेंस मेंनटेन करना होगा. पहले कहा गया था कि बैंक मिनिमम बैलेंस की जरूरत को करीब 1000 रुपये किया जा सकता है, लेकिन अभी इस पर फैसला होना बाकी है. SBI ने जून में मिनिमम बैलेंस को बढ़ाकर 5000 रुपये कर दिया था. हालांकि, बाद में इसे मेट्रो शहरों में घटाकर 3000, सेमी-अर्बन में 2000 और ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 रुपये किया गया था. नाबालिग और पेंशनर्स के लिए भी इस सीमा को कम कर दिया गया था. पैनल्टी को 25-100 रुपये से घटाकर 20-50 रुपये के रेंज में लाया गया था. पहले कहा गया था कि बैंक मिनिमम बैलेंस की जरूरत को करीब 1000 रुपये किया जा सकता है, लेकिन अभी इस पर फैसला होना बाकी है. SBI ने जून में मिनिमम बैलेंस को बढ़ाकर 5000 रुपये कर दिया था. हालांकि, बाद में इसे मेट्रो शहरों में घटाकर 3000, सेमी-अर्बन में 2000 और ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 रुपये किया गया था. नाबालिग और पेंशनर्स के लिए भी इस सीमा को कम कर दिया गया था. पैनल्टी को 25-100 रुपये से घटाकर 20-50 रुपये के रेंज में लाया गया था. मासिक की बजाय तिमाही बैलेंस के नियम से उन लोगों को फायदा मिलने की उम्‍मीद थी, जिनके अकाउंट में किसी महीने कैश की कमी हो जाती है, लेकिन अगले महीने वह कैश जमा भी कर देते हैं. मासिक की बजाय तिमाही बैलेंस के नियम से उन लोगों को फायदा मिलने की उम्‍मीद थी, जिनके अकाउंट में किसी महीने कैश की कमी हो जाती है, लेकिन अगले महीने वह कैश जमा भी कर देते हैं. गौरतलब है कि एसबीआई में




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2019