ब्रेकिंग BJP के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा का संगीन आरोप, कहा- ISI से जुड़े हैं बॉलीवुड के कुछ लोग                  
विज्ञापन                  गब्बर सिंह मालिक पशु पेंट बिचपुरी ब्लॉक राया                  गुड्डू चौधरी प्रधान प्रतिनिधि ग्राम आयरा खेड़ा ब्लॉक राया मथुरा                  लक्ष्मण सिंह प्रधान घड़ी परसा की ओर से समस्त जनपद वासियों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं                  रमेश कुमार गुप्ता प्रभारी बांदा राकेश कुशवाह झांसी                  संतोष मिश्र पंकज सिंह बाबू खान रमेश कुमार राजू खान बहराइच                  वर्षा सिंह लखीमपुर दानिश अली प्रभारी कन्नौज                  फराज खान लखीमपुर अभिषेक गुप्ता निघासन लखीमपुर                  तबस्सुम अंसारी सीतापुर आशीष गौड़ सीतापुर                  नसीम खान प्रभारी उत्तर प्रदेश बहराइच                  shah satnam ji engineering works new delhi all kinds shutter roiling ptti macine tarun mishra mo 9811935781                  
जानिए देश मे शराब से कितना कमाती है सरकार
Delhi,(Delhi)(05-May-2020)

भारत में लॉकडाउन 3.O की शुरुआत हुई है 4 मई से और इसी 4 मई से देश में पिछले 40 दिनों से बंद शराब की दुकानें भी खुल गई हैं. अब दुकानें खुली हैं, तो पीने वालों की लाइन भी लगी है. लोग खरीद भी रहे हैं और स्टॉक भी कर रहे हैं. कई जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी हो रहा है, तो कई जगहों पर इसकी धज्जियां भी उड़ रही हैं. जिन्हें शराब की ज़रूरत है, वो सरकार के इस फैसले की तारीफ कर रहे हैं, तो वहीं शराब न पीने वाला तबका सरकार के इस फैसले पर सवाल उठा रहा है. आर्थिक मामलों के जानकार कह रहे हैं कि शराब बेचने से सरकार को आमदनी होगी तो एक बड़ा वर्ग ऐसा भी है, जो कह रहा है कि क्या सिर्फ राज्यों की आमदनी के लिए लोगों की जान के साथ खिलवाड़ किया जा सकता है. भारत में कुल 28 राज्य और 8 केंद्रशासित प्रदेश हैं. इन राज्यों में से बिहार, गुजरात, लक्षद्वीप, मणिपुर, मिजोरम और नगालैंड में शराब प्रतिबंधित है. बाकी बचे राज्यों के लोग हर साल करीब 600 करोड़ लीटर शराब पी जाते हैं. इस शराब पर राज्य टैक्स लगाते हैं और अपनी आमदनी करते हैं. अपने यहां शराब को प्रतिबंधित करने वाले राज्यों को छोड़कर बचे हुए राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने शराब पर लगने वाली स्टेट एक्साइज ड्यूटी से साल 2019-20 में कुल 1,75,501.42 करोड़ रुपये की आमदमी की है. रिजर्व बैंक की एक रिपोर्ट कहती है कि साल 2018-19 में इन राज्यों को एक्साइज टैक्स से कुल कमाई 1,50,657.95 करोड़ रुपये हुई थी. रिपोर्ट ये भी कहती है कि राज्य अपनी कुल आमदमी का 10 से 15 फीसदी हिस्सा शराब पर लगे टैक्स की वजह से ही कमा पाते हैं. हालांकि इंटरनेशनल स्पिरिट्स एंड वाइंस असोसिएशन ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट कहती है कि 2019 में कुल 2.48 लाख करोड़ रुपये की आमदनी शराब बेचने से हुई है.देश में इस वक्त जीएटी लागू है, लेकिन शऱाब को जीएसटी से बाहर रखा गया है. लिहाजा राज्य सरकारें अपने-अपने हिसाब से शराब पर टैक्स लगाती हैं. आम तौर पर कोई भी राज्य शराब के बनाने और बेचने पर टैक्स लगाता है. इसके अलावा कुछ ऐसे भी राज्य हैं, जिन्होंने शराब पर वैल्यू ऐडेड टैक्स यानि कि वैट लगा रखा है जैसे कि तमिलनाडु. इसके अलावा कुछ राज्य सरकारें विदेशी शराब के आयात पर, उनकी लेबलिंग पर और उनके रजिस्ट्रेशन पर अलग से टैक्स लगाती हैं. उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में शराब पर गो कल्याण सेस लगाया गया है, जो 0.5 फीसदी है. राज्यों को सबसे ज्यादा आमदनी होती है जीएसटी यानि कि गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स से. इसके बाद उनकी कमाई का सबसे बड़ा जरिया शराब ही है, जिसे बेचने और बनाने पर टैक्स वसूलकर राज्यों की अर्थव्यवस्था चलती है. और ये हम नहीं रिजर्व बैंक की एक रिपोर्ट ‘State Finances: A Study of Budgets of 2019-20’कहती है. और यही वजह है कि कोई भी राज्य सरकार शराब को जीएसटी के दायरे से बाहर रखना चाहती है. क्योंकि अगर एक बार शराब जीएसटी के दायरे में आ गई तो फिर उसमें केंद्र सरकार का भी हिस्सा हो जाएगा और फिर राज्यों की कमाई घट जाएगी. रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018-19 में देश के राज्य औसतन हर महीने करीब 12,500 करोड़ रुपये सिर्फ शराब से कमाते थे, जो 2019-20 में बढ़कर करीब 15000 करोड़ रुपये तक हो गए थे. इसे कुछ उदाहरणों से समझने की कोशिश करते हैं. रिजर्व बैंक की रिपोर्ट ‘State Finances: A Study of Budgets of 2019-20’के मुताबिक 2019-20 में उत्तर प्रदेश ने करीब 2500 करोड़ रुपये महीने की आमदनी सिर्फ शराब से मिलने वाले टैक्स से की थी. साल 2019-20 में उत्तर प्रदेश को शराब से कुल 31,517.41 करोड़ रुपये की आमदनी हुई थी. दूसरे नंबर पर कर्नाटक था, जिसने 2019-20 में कुल 20,950 करोड़ रुपये शराब पर टैक्स लगाकर कमाए थे. महाराष्ट्र इस कमाई के मामले में तीसरे नंबर पर था, जहां शराब पर टैक्स लगाकर सरकार ने कुल 17,477.38 करोड़ रुपये कमाए थे. पश्चिम बंगाल इस लिस्ट में चौथे नंबर पर था, जिसने साल 2019-20 में 11,873.65 करोड़ रुपये की आमदनी की थी. तेलंगाना इस लिस्ट में पांचवे नंबर पर था, जिसने 10,901 करोड़ रुपये कमाए थे. लेकिन लॉकडाउन की वजह से सभी राज्यों की ये आमदनी पिछले 40 दिनों से ठप पड़ी हुई थी. इन आंकड़ों के आधार पर ये साफ है कि राज्यों को हर दिन करीब 700 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा था. इसके अलावा गाड़ियां ठप होने की वजह से पेट्रोल-डीज़ल की बिक्री में भी कमी आ गई थी और इसकी वजह से भी राज्यों की आमदमी पर असर पड़ रहा था. कोविड 19 की वजह से केंद्र सरकार राज्यों को उनके जीएसटी का भी हिस्सा नहीं दे पा रही थी, जिससे राज्यों को अपनी ज़रूरतें पूरा करने में दिक्कत हो रही थी. और यही वजह थी कि राज्य सरकारें केंद्र सरकार से शराब की दुकानों को खुलवाने का आग्रह कर रही थीं.




Comments:







Visitor No. :

Visitor Count


प्राइम समाचार
बडी खबरे
खबरे अब तक
साक्षात्कार
स्पोर्टस
क्राइम
ब्लॉग
बॉलीवुड

Copyright © Samachar Prime 24 @ 2014-2020